स्मार्ट सीडर उपकरण पंजाब के किसानों के लिए होगा लाभदायी

स्मार्ट सीडर उपकरण पंजाब के किसानों के लिए होगा लाभदायी

176

खेती के लिए विभिन्न प्रकार के उपकरणों में पराली प्रबंधन हमेशा से ही चुनौतीपूर्ण रहा है। हाल ही में, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) ने विभिन्न प्रकार की मशीनें बनाई हैं। मशीनों की कुशलता और क्षमता पर ज्यादा ध्यान दिया गया है। पीएयू के पावर इंजीनियरिंग व फार्म मशीनरी विभाग ने स्मार्ट सीडर नाम की मशीन किसानों के उपयोग के लिए तैयार की है। यह सुपर सीडर और हैप्पी सीडर का ही एक प्रकार है।

स्मार्ट सीडर नाम का यह उपकरण सुपर सीडर और हैप्पी सीडर के मुकाबले काफी फायदेमंद है। इसमें गेहूं की पैदावार अधिक होती है। यह आधुनिक तकनीक के साथ बनाया गया है। इसमें अनेक फीचर्स जैसे – खेत को जोतने और मशीन में पराली को संभालने के लिए छोटे-छोटे ब्लेड, डिस्क फाले, खाद- बीज डालने वाला नया सिस्टम, रोलर जो बीज को मिट्टी से ढग दें, जो पराली को थोड़े हिस्से में मिट्टी में मिलाते हैं, तथा बची पराली को मिट्टी की सतह के ऊपर बिछा देते हैं।

स्मार्ट सीडर उपकरण बीज को बराबर अंकुरित करने में कार्य करता है। इस उपकरण के माध्यम से ४५ से ५० हॉर्स पावर क्षमता वाले ट्रैक्टर के साथ उपयुक्त किया जा सकता है।

स्मार्ट सीडर पावर एफिशिएंसी के लिए जाना जाता है जिसमें एक एकड़ जमीन में गेहूं की बिजाई ५.५ लीटर डीजल में कर देता है। डा. महेश नारंग पीएयू के फार्म मशीनरी विभाग के प्रमुख का कहना है कि, स्मार्ट सीडर की कार्य क्षमता सुपर सीडर से अधिक पायी गयी है, जबकि सुपर सीडर और हैप्पी सीडर की तेल की खपत कम है। पंजाब के विभिन्न जगहों पर इस उपकरण का उपयोग कर यह देखा गया है कि, स्मार्ट सीडर से बीजी गई गेहूं का झाड़ सुपर सीडर से चार फीसद अधिक है।

स्मार्ट सीडर को कैसे बेहतर माना गया है।

स्मार्ट सीडर खेत कि जुताई आसानी से छोटे ट्रैक्टर जिसकी पावर ४५ से ५० हॉर्स पावर रेंज है ट्रैक्टर के साथ चल सकता हैं तथा इसमें कम डीजल कि खपत के साथ पराली वाले खेतों में बीजी गई गेहूं पैदावार को बढ़ाने में उपयोगी है जो हैप्पी सीडर और सुपर सीडर नाम के उपकरण से काफी लाभदायी है।

मशीन की कीमत

स्मार्ट सीडर का निर्माण अमृतसर और लुधियाना में किया जा रहा है, मशीन की कीमत एक लाख ९० हजार रुपये तय कि जा रही है, मशीन कि कीमत ज्यादा होने कि वह से पंजाब सरकार सब्सिडी प्रदान करेगी। पंजाब सरकार ने केंद्र सरकार से अन्य मशीनों की तरह इस पर भी सब्सिडी उपलब्ध करवाने का आग्रह किया है। उम्मीद है कि जल्द ही इस पर सब्सिडी मिलने लगेगी। अभी जो किसान इसे खरीदना चाहते हैं, वो पीएयू के फार्म मशीनरी विभाग या पीएयू के कृषि विज्ञान केंद्र से संपर्क कर सकते हैं।

agri news

Leave a Reply