मक्का उत्पादक (Maize) किसानों के लिए बड़ी खबर, इथेनॉल उत्पादन (Ethanol Production) के लिए खरीदा जाएगा मक्का; क्या होंगे भाव।

मक्का उत्पादक (Maize) किसानों के लिए बड़ी खबर, इथेनॉल उत्पादन (Ethanol Production) के लिए खरीदा जाएगा मक्का; क्या होंगे भाव।

223

इथेनॉल उत्पादन (Ethanol Production) को लेकर केंद्र सरकार (Central Government) ने बड़ा फैसला लिया है। एथेनॉल उत्पादन बढ़ाने के लिए अब गन्ने (Sugarcane) से ज्यादा मक्का (Maize) का इस्तेमाल किया जाएगा।

KhetiGaadi always provides right tractor information

“इथेनॉल उत्पादन (Ethanol Production): केंद्र सरकार (Central Government) ने इस पर महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। अब गन्ने (Sugarcane) की जगह मक्के का अधिक उपयोग करके एथेनॉल उत्पादन को बढ़ाने का निर्णय किया गया है।” चीनी की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने इस नीति को अपनाया है, जिसके परिणामस्वरूप अब मक्के(Maize) से अधिक मात्रा में इथेनॉल उत्पादन किया जाएगा।”

मक्का की आपूर्ति: सरकार ने सहकारी समितियों द्वारा निर्धारित दर पर बदलाव किया है। इथेनॉल उत्पादकों को अब मक्का की आपूर्ति को सहकारी समितियों से निश्चित दर पर करने का निर्णय लिया गया है। यह परिवर्तन इथेनॉल के निर्बाध उत्पादन की सुनिश्चितता में मदद करेगा, जबकि यह साथ ही चीनी की उपलब्धता को बाजार में सुनिश्चित करने में भी मदद करेगा। सरकार ने चीनी के उत्पादन में घटने की उम्मीद को देखते हुए इस फैसले को लिए है, क्योंकि कई जगहों पर इस साल बारिश कम हुई है।”

Khetigaadi

मक्का (Maize) की आपूर्ति 2,291 रुपये प्रति क्विंटल पर की जाएगी

माध्यमन, पीटीआय या वृत्तसंस्थाएं द्वारा प्रदत्त जानकारी के अनुसार, सरकार ने सहकारी संघ नाफेड और नॅशनल कोऑपरेटिव कंस्यूमर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (NCCF) को इथेनॉल तैयार करने के लिए इस वर्ष 2,291 रुपये प्रति क्विंटल के दर पर मक्का प्रदान करने की मंजूरी दी है। इन दोनों सहकारी संगठनों ने 2023-24 के पीक वर्ष में 2,090 रुपये प्रति क्विंटल या उससे कम मूल्य पर मक्का खरीदने का निर्णय लिया है और इथेनॉल निर्माताओं को 2,291 रुपये प्रति क्विंटल के दर पर प्रदान करेंगे।

वर्तमान में, गन्ना (Sugarcane) सबसे अधिक इथेनॉल का उत्पादन करता है।

वर्तमान में, देश में गन्ने का मुख्य उपयोग मुख्य रूप से इथेनॉल उत्पादन के लिए किया जा रहा है। गन्ने (Sugarcane) से चीनी भी निकाली जाती है। हाल ही में, चीनी की कीमतों में वृद्धि हुई है, जिसका मुख्य कारण बाजार में चीनी की कम आपूर्ति थी। इसके बाद, सरकार ने चीनी मिलों को निर्देश दिया है कि गन्ने का इस्तेमाल इथेनॉल बनाने के लिए नहीं, बल्कि मक्के का उपयोग करें। इस दौरान, विपणन वर्ष 2023-24 (अक्टूबर 2023 से सितंबर 2024) के दौरान देश में चीनी उत्पादन में कमी की संभावना है। इस पर, सरकार सतर्कता बनाए रख रही है और चीनी उत्पादन के लिए गन्ने की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए मक्के को बढ़ावा देने का निर्णय लिया है।

“देश में मक्के का उत्पादन का अनुमान 22.48 मिलियन टन है।”

जुलाई 2023 से जून 2024, अर्थात फसल वर्ष 2023-24 के बीच, देश में मक्के (Maize) की उम्मीदवार 22.48 मिलियन टन है। यह आंकड़ा कृषि मंत्रालय ने अपने पहले उन्नत अनुमान में प्रस्तुत किया है। इसी संदर्भ में, तेल कंपनियों ने मक्का पर आधारित इथेनॉल के खरीद की मूल्य बढ़ाकर प्रति लीटर 5.79 रुपये कर दिया है।

सरकार ने वह फैसला वापस ले लिया

देश में चीनी की कीमतें बढ़ गई हैं क्योंकि गन्ने के उत्पादन में गिरावट का असर कीमतों पर पड़ रहा है। इसी दौरान, केंद्र सरकार ने जून से गन्ने से इथेनॉल उत्पादन (Ethanol Production) पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय किया था। इस फैसले को लेकर एक अधिसूचना जारी की गई थी। इस कदम से घरेलू बाजार में चीनी की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने की उम्मीद थी, हालांकि इस निर्णय का काफी विरोध हुआ था। इसके बाद सरकार ने गन्ने के रस और गुड़ से इथेनॉल उत्पादन की अनुमति दे दी है। इस निर्णय से चीनी कारखानों को इथेनॉल उत्पादन के लिए 17 लाख टन तक चीनी का उपयोग करने की अनुमति मिल गई है।


अधिक जानकारी के लिए डाउनलोड कीजिए खेतिगाडी ऍप. 

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply