जलवायु परिवर्तन, कुपोषण को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ३५ किस्म की विशेष फसलों की शुरुवात करने जा रही है।

जलवायु परिवर्तन, कुपोषण को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ३५ किस्म की विशेष फसलों की शुरुवात करने जा रही है।

229

सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार, केंद्र सरकार कुपोषण और जलवायु परिवर्तन जैसे दोहरी चुनौतियों का समाधान के लिए कृषि अनुसंधान परिषद् ने ३५ फसल किस्मों का शुभारंभ किया है।

नयी प्रकार की फसल किस्मों को एक वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से विभिन्न आईसीएआर संस्थानों, राज्य और केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालयों और कृषि विज्ञान केंद्रों में आयोजित राष्ट्र को समर्पित किया गया।

इस साल, ३५ प्रकार की फसल किस्मों को जो जलवायु लचीलापन और उच्च पोषक तत्व-सामग्री जैसे विशेष लक्षणों से युक्त हैं किसानों के हित के लिए विकसित किया गया है।

इनमें शामिल विशेष प्रकार की किस्म में सोयाबीन की जल्दी पकने वाली किस्म, चना की सूखा सहिष्णु किस्म, चावल की रोग प्रतिरोधी किस्में, मक्का और चना, आदि नयी प्रकार की फसलों को शामिल किया गया हैं।

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर कहते हैं कि, देश में ८६ प्रतिशत छोटे किसान हैं जिसपर सरकार का ध्यान उनकी आय बढ़ने पर केंद्रित है।

पीएम का मानना हैं कि, किसानों को खुद के बल पर उठना चाहिए न कि दूसरों की करुणा पर निर्भर रहना चाहिए। केंद्र सरकार ने पीएम-किसान और किसान रेल के माध्यम से परिवहन सुविधा जैसी कई योजनाएं शुरू की हैं।

सरकार भारत को कृषि क्षेत्र में तथा आत्म निर्भर बनाने के लिए विभिन्न योजनाओं के तहत सुविधाएं दे रही हैं।

agri news

Leave a Reply