Watermelon Price: कलिंगड़ के दाम में बड़ी गिरावट, तलकोंकण में बलिराजा संकट में; सैकड़ों टन कलिंगड़ खेतों में पड़ा है।
Watermelon Price

Watermelon Price: कलिंगड़ के दाम में बड़ी गिरावट, तलकोंकण में बलिराजा संकट में; सैकड़ों टन कलिंगड़ खेतों में पड़ा है।

2150

वर्तमान में कलिंगड़ के उत्पादक किसान संकट में हैं। क्योंकि कलिंगड़ (तरबूज की कीमत) की कीमत में भारी गिरावट आई है। इससे ताल कोंकण के किसान बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं। रेट न होने से सैकड़ों टन कलिंगड़ खेतों में पड़ा है। अभी यह रेट 3 से 5 रुपये प्रति किलो है। बाजार में मांग से अधिक उत्पादन भी हुआ है, जिसका असर कीमतों पर पड़ता दिख रहा है।

KhetiGaadi always provides right tractor information

तलकोंकण  में कलिंगड के उत्पादक किसान संकट में हैं। सिंधुदुर्ग में कीमतों में गिरावट से सैकड़ों टन माल खेतों में पड़ा है. गोवा के बाजार में कर्नाटक से अधिक उत्पादन और कलिंगड़ की बड़ी मात्रा के कारण कीमतों में तेजी से गिरावट आई है। 

रेट न होने पर कलिंगड़ को बाजार में ले जाकर क्या करेंगे? किसानों के सामने यह सवाल है। इसलिए कलिंगड़ खेत में पड़ा हुआ है। सिंधुदुर्ग जिले के कलिंगड़ के किसानों को बड़ी आर्थिक मार पड़ रही है। इसलिए भविष्य में कलिंगड़ की खेती पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

Khetigaadi

कलिंगड़ की उपज 75 से 80 दिनों में हो जाती है। इसके कारण पिछले कुछ वर्षों में सिंधुदुर्ग जिले में कलिंगड़ की खेती के क्षेत्र में भारी वृद्धि हुई है। कलिंगड़ की खेती से किसानों को अच्छा मुनाफा होने के कारण युवा पीढ़ी भी कलिंगड़ की खेती की ओर रूख कर रही है। 

हालांकि, कलिंगड़ की कीमत में गिरावट के कारण किसान आर्थिक संकट में है। वर्तमान में कलिंगड़ की कीमत 3 रुपये से 5 रुपये तक गिर गई है। हालांकि कलिंगड़ से व्यापारी नहीं खरीद रहे हैं, जिससे किसानों का माल खेतों में ही सड़ रहा है।

कलिंगड़ में हर साल 12 से 15 रुपये किलो मिलता है। हालांकि इस साल कलिंगड़ा में 3 से 5 रुपये प्रति किलो की बिक्री हो रही है। इससे किसान आर्थिक संकट में हैं। सिंधुदुर्ग जिले में बड़ी मात्रा में कलिंगड़ का उत्पादन होता है। कलिंगा का गोवा में बड़ा बाजार है। 

हालांकि, गोवा के बाजार में कर्नाटक से कलिंगड़ का बड़ा प्रवाह हुआ है। इससे रेट प्रभावित हुआ है। रेट नहीं मिलने से सिंधुदुर्ग जिले के किसान अपने खेतों में पड़े हैं. कलिंगड नश्वर होने के कारण इसके खेत में सड़ने की संभावना रहती है। इससे जिले के किसानों का आर्थिक आंकलन चरमरा गया है।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply