ई-पौधशाला मोबाइल एप्लिकेशन से सरकारी नर्सरी से पौधों को मुफ्त वितरण किया जा सकता है।

ई-पौधशाला मोबाइल एप्लिकेशन से सरकारी नर्सरी से पौधों को मुफ्त वितरण किया जा सकता है।

362

हाल ही में हरयाणा में आयोजित ७२वें वन महोत्सव में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से आग्रह किया की वे अपने जीवनकाल में कम से कम एक पेड़ लगाने का ‘हरित संकल्प’ करे।

आगे उन्होंने यह भी कहा की, “इस साल हमने ३ करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। मैं आप सभी से आग्रह करूंगा कि धरती मां के स्वास्थ्य की बेहतरी सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार के वृक्षारोपण अभियान का हिस्सा बनें।”

मुख्यमंत्री ने वृक्षारोपण के महत्व को ध्यान में रखते हुए ई-पौधशाला’ नाम से एक नागरिक केंद्रित मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया।

वृक्षारोपण के महत्व को ध्यान में रखते हुए सीएम ने सरकारी नर्सरी से पौधे के मुफ्त वितरण के लिए ‘ई-पौधशाला’ नाम से एक नागरिक केंद्रित मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया।

उन्होंने बतया कि “सरकार ने ३ करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। मैं आप सभी से आग्रह करूंगा कि धरती मां के स्वास्थ्य की बेहतरी सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार के वृक्षारोपण अभियान का हिस्सा बनें।”

वृक्षारोपण के महत्व को ध्यान में रखते हुए सीएम ने सरकारी नर्सरी से पौधे के मुफ्त वितरण के लिए ‘ई-पौधशाला’ नाम से एक नागरिक केंद्रित मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया।

टू जियो टैग प्लांट्स- ऐप जल्द ही लॉन्च करने की योजना

मुख्यमंत्री ने यह भी घोषणा की कि लोगों द्वारा लगाए गए पोधों की जियो-टैगिंग के लिए एक आवेदन जल्द ही शुरू होने जा रहा है। यह नया मोबाइल ऐप नए फीचर्स के साथ पेश किया जाएगा जिसमें वन विभाग को हर ६ महीने में लगाए गए पेड़ों की तस्वीरें लेने में मदद करेगा ताकि उनका स्वास्थ्य और सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

छात्रों को कैसे होगा फायदा

मुख्यमंत्री ने इस ऐप के तहत छात्रों को अधिक से अधिक पेड़ लगाने के लिए प्रेरित किया जिसमें एक फिलीपींस का उदाहरण देते हुए कहा की, वहां के हर छात्र को पेड़ लगाना अनिवार्य है तभी वे अपनी स्नातक की डिग्री प्राप्त कर सकते है।

उसी तरह राज्य के छात्रों को भी पेड़ लगाने पर १२ वीं में कम से कम १० अतिरिक्त अंक प्रदान कर सकते है। शिक्षा विभाग इसकी योजना में जुटा है ताकि छात्रों को अधिक से अधिक पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

शिक्षा विभाग द्वारा इस प्रावधान की खोज की जा रही है ताकि छात्रों को अधिक से अधिक पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

पौधगिरी अभियान के तहत कक्षा ६ से १२ तक के उन बच्चों को प्रोत्साहन के रूप में हर ६ महीने में ५० रुपये की राशि दी जाती है जो ३ साल तक अपने पौधे की देखभाल करते हैं।

agri news

Leave a Reply