बढ़ते तापमान से गेहूँ उत्पादक किसान चिंतित हैं; कयी राज्यो में 10 सेल्सिअस से तापमान बद्ध गया।
गेहूँ उत्पादन

बढ़ते तापमान से गेहूँ उत्पादक किसान चिंतित हैं; कयी राज्यो में 10 सेल्सिअस से तापमान बद्ध गया।

1702

देश में लगातार जलवायु परिवर्तन हो रहा है। कभी ठंड होती है, कभी बादल छाते हैं और कभी गर्मी होती है। इस बदलते मौसम से राज्य में खरीफ सीजन की फसलें बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। बाढ़, बारिश और सूखे के कारण किसानों को भारी नुकसान हुआ था। इसी तरह रबी की फसल भी इस बदलते परिवेश से प्रभावित हो रही है। फिलहाल तापमान बढ़ गया है। इसलिए इस बढ़ते तापमान से गेहूं की फसल प्रभावित होने की संभावना है। देश के कुछ राज्यों में तापमान में 10 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई है।

KhetiGaadi always provides right tractor information

पिछले साल लू के कारण गेहूं के उत्पादन में भारी गिरावट आई थी। इसी तरह निर्यात के कारण गेहूं और आटे के दाम बढ़े हैं। इसी तरह एक बार फिर तापमान बढ़ रहा है। इससे गेहूं किसानों की चिंता बढ़ गई है। खरीफ सीजन में राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्यों में किसानों की लाखों रुपये की फसल बर्बाद हो गई थी, अब रबी सीजन की फसल भी प्रभावित होने की संभावना है. किसान इस बात को लेकर चिंतित हैं कि फसलों को बचाने के लिए क्या इंतजाम किया जाए।

फरवरी के महीने में मौसम ठंडा रहता है। पिछले कुछ दिनों से ठंडा मौसम गेहूं की फसल के लिए मुफीद बताया जा रहा था। हालांकि पिछले कुछ दिनों से तापमान में बढ़ोतरी हुई है। इससे गेहूं किसानों की टेंशन बढ़ गई है। बढ़ती गर्मी गेहूं की फसल के लिए खतरनाक है। गर्मी बढ़ने से गेहूं का उत्पादन घटने की संभावना है। 

Khetigaadi

उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, झारखंड और अन्य राज्यों में तापमान में 10 डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि देखी गई है। कुछ दिन पहले जहां न्यूनतम तापमान 3 से 4 डिग्री सेल्सियस था। अभी यह 14 डिग्री सेल्सियस या इससे ज्यादा है। देश में भारी मात्रा में गेहूं बोया गया है। इससे गेहूं के उत्पादन में भारी बढ़ोतरी होने की संभावना जताई जा रही है। हालांकि, अगर गर्मी का प्रकोप जारी रहता है, तो गेहूं की फसल को भारी नुकसान होने की संभावना है।

पिछले साल गेहूं उत्पादन को लेकर केंद्र सरकार के रिकॉर्ड की पोल खुल गई थी। रूस-यूक्रेन युद्ध और गर्मी की लहर को गेहूं के उत्पादन में गिरावट का मुख्य कारण माना जाता है। गर्मी का सबसे ज्यादा असर गेहूं के उत्पादन पर पड़ा है। 15 दिसंबर तक देश में 180 लाख टन गेहूं और 111 लाख टन चावल उपलब्ध था। 

चालू सीजन में रबी फसलों के तहत क्षेत्र में तेजी से वृद्धि हुई है। 3.25 करोड़ हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें बोई जा चुकी हैं। पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान देश के प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्य हैं। केंद्र सरकार ने इस सीजन में 11.2 करोड़ टन गेहूं उत्पादन का अनुमान लगाया है। यह पिछले साल से 50 लाख टन ज्यादा होगा। गेहूं के उत्पादन में अच्छी वृद्धि के तीन कारण हैं। खेती के तहत क्षेत्र में वृद्धि हुई है, दूसरे अब तक जलवायु अनुकूल रही है, और नई किस्मों के कारण गेहूं के तहत क्षेत्र में वृद्धि हुई है।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply