सीमांत जनजातीय किसानों को कोविद-१९ से निपटने के लिए लॉरेडेल एग्रो प्रोसेसिंग इंडिया की तरफ से मिलेगी राहत !

सीमांत जनजातीय किसानों को कोविद-१९ से निपटने के लिए लॉरेडेल एग्रो प्रोसेसिंग इंडिया की तरफ से मिलेगी राहत !

635

सीमान्त और छोटे किसानों की सहायता के लिए लॉरेडेल एग्रो प्रोसेसिंग इंडिया ने ५०० करोड़ रूपए का ऋण देने का लिया निर्णय |

KhetiGaadi always provides right tractor information

कोविद -१९ की स्थिति में छोटे ज़मीन और आदिवासी किसान को लॉरेडेल एग्रो प्रोसेसिंग इंडिया (लीफ) ने मदद करने के लिए फैसला किया जिसमे ५०० करोड़ का क्रीं भी दिया जाएगा।

साथ ही एकीकृत कृषि सेवा प्रदाता लीफ ने कहा कि यह सीमांत किसानों के लिए आवश्यक संगठित ऋण में फ़नल बनाने के लिए नए युग की वित्तीय प्रौद्योगिकी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) के साथ संरेखित कर रहा है।

यह देखा गया है कि, दक्षिण भारत के पश्चिमी और पूर्वी घाटों के दूरस्थ स्थानों में सीमांत किसानों को संगठित सहायता उपलब्ध नहीं है।

सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार, एलएएएफ के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी पलात विजयराघवन ने एक बयान में कहा, हाशिए पर खड़े किसान खेती के श्रम की कमी के बीच खड़ी फसलों की कटाई करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इसकी तुलना थोक बाजारों की प्रतिबंधित कार्यप्रणाली है, जिसके कारण किसानों को सबसे ज्यादा डर है।

उन्होंने एक बयान में कहा, “हम बड़े थोक बाजारों में, किसानों की ओर से, सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल के साथ कृषि श्रम का आयोजन करके और समग्र फसल को तरल करके इन चुनौतियों का समाधान कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि कंपनी कृषि इनपुट सुनिश्चित कर रही है, संगठित ऋण के माध्यम से, पश्चिमी और पूर्वी घाट के दूरदराज के क्षेत्रों में खेत के द्वार तक पहुंच रही है।

उन्होंने कहा, “फसल के तरल होने के बाद, खेत को अगली फसल के लिए तैयार और तैयार करना पड़ता है। खेती के इनपुट तक पहुंच – समृद्ध मिट्टी, बीज, फसल सुरक्षा और फसल पोषण इन समय के दौरान आना मुश्किल है।”

इसके अलावा, लीफ उन स्थानों पर २५ किसान सेवा केंद्र स्थापित कर रहा है जिनमें आदिवासी और सीमांत किसानों की बड़ी संख्या है।

“लीफ की पेशेवर कृषिविदों की टीम द्वारा प्रबंधित ये केंद्र फसल के पूरे जीवन-चक्र में किसानों के साथ काम करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि उनके प्रयासों के बेहतर परिणाम मिल रहे हैं।”

बयान में कहा गया है कि तमिलनाडु स्थित इन किसान सेवा केंद्रों में कृषि पारिस्थितिकी तंत्र में महत्वपूर्ण पारदर्शिता लाने के लिए प्रभावशाली तकनीक भी तैनात कर रहा है।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply