आईपीजीए: भारत में मसूर की कीमतों में नहीं होगी कोई कमी

आईपीजीए: भारत में मसूर की कीमतों में नहीं होगी कोई कमी

1142

सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार, भारत में मसूर की कीमतों को कम करने में मदद नहीं मिलेगी यह फैसला भारत सरकार ने और ट्रेड बॉडी इंडियन पल्सेस एंड ग्रेन्स एसोसिएशन (आईपीजीए) ने दावा किया है।

KhetiGaadi always provides right tractor information

यह आयत शुल्क कम करने में सरकार ने निर्णय लिया है। इसमें केवल ऑस्ट्रेलियाई किसानों और कनाडा के किसानों को मदद मिलेगी जो भारत में निर्यात करेंगे।

मसूर दाल का निर्यात या उत्पन्न संयुक्त राज्य अमेरिका के अलावा अन्य देशों में मूल सीमा शुल्क १० प्रतिशत से घटाकर शून्य कर दिया गया है।

वही सिर्फ संयुक्त राज्य अमेरिका में निर्यात या उत्पन्न किए जाने वाले मसूर पर मूल सीमा शुल्क ३० प्रतिशत से घटाकर २० प्रतिशत कर दिया गया है। वर्तमान में मसूर पर कृषि अवसंरचना को २० प्रतिशत से घटाकर १० प्रतिशत कर दिया गया है।

बिमल कोठारी, आईपीजीए के वाइस चेयरमैन का कहना है कि, ‘सरकार को आयात शुल्क कम नहीं करना चाहिए था क्योंकि दाल की कीमतों में नरमी नहीं आने वाली है।

इससे कनाडा के किसानों, कनाडा के निर्यातकों, ऑस्ट्रेलियाई किसानों, ऑस्ट्रेलियाई निर्यातकों और बहुराष्ट्रीय कंपनियों को छोड़कर किसी भी भारतीय हितधारक को लाभ नहीं होगा।

हम मसूर की कीमतों पर २२ प्रतिशत की इसी कीमत में कमी नहीं देखेंगे। दाल की कीमत केवल १-२ रुपये प्रति किलोग्राम कम हो सकती है, न कि १३-१४ रुपये प्रति किलोग्राम।

सरकार की इस अधिसूचना पर, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया के निर्यातकों ने पहले ही कीमत में ७५/८० डॉलर प्रति मीट्रिक टन की वृद्धि कर दी है।

आईपीजीए ने यह भी बताया कि, भारतीय किसान, भारतीय दलहन व्यापार,उपभोक्ता, और नीति निश्चित रूप से भारतीय उपभोक्ता, भारतीय दलहन व्यापार और यहां तक ​​कि सरकार के हित में नहीं है।

“वास्तव में, मसूर दाल के आयात शुल्क में कमी के कारण सरकार को पर्याप्त राजस्व का नुकसान होगा।

इसी तरह की नीति पिछले साल २०२० में घोषित की गई थी और आयात शुल्क को ३३ प्रतिशत से घटाकर ११ प्रतिशत कर दिया गया था। आईपीजीए ने भारत सरकार के ध्यान में इस तरह की नीति के दोषों को लाया और ३ महीने के बाद इसे ३३ प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया।

हम सरकार से इस तरह के हानिकारक कदम नहीं उठाने का आग्रह करते हैं जो किसानों, उपभोक्ताओं और व्यापार को बुरी तरह प्रभावित करते हैं, ”कोठारी ने कहा।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply