कृषि क्षेत्र में छोटे और सीमांत किसानों पर लक्ष केंद्रित करने  की आवश्यकता है: राष्ट्रपति

कृषि क्षेत्र में छोटे और सीमांत किसानों पर लक्ष केंद्रित करने की आवश्यकता है: राष्ट्रपति

14

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सांसद बैठक के दौरान शुक्रवार को कहा कि भारत के कृषि क्षेत्र में १० करोड़ सीमांत और छोटे किसानों पर लक्ष केंद्रित करने की जरुरत है जिनमे भारत देश कुल ८० प्रतिशत किसानों  का हिस्सा शामिल है । उन्होंने कहा की  भारत सरकार छोटे और सीमांत किसानों को प्राथमिकता देती है, जबकि इन किसानों के समर्थन के लिए उठाए गए उपायों पर प्रकाश डालती है। आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को कृषि में आत्मनिर्भरता से और मजबूत किया जाएगा, इस विचार के साथ, सरकार ने पिछले छह वर्षों में ‘बीज से बाजार तक’ में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास किया है।

उन्होंने कहा कि सिंचाई के विभिन्न स्रोतों में व्यापक सुधार लाया जा रहा है। ‘प्रति बूंद अधिक फसल’ के मंत्र के बाद, सरकार न केवल लंबित सिंचाई योजनाओं को पूरा कर रही है, बल्कि किसानों को आधुनिक सिंचाई तकनीक भी प्रदान कर रही है। केवल 42 लाख हेक्टेयर जमीन 2013-14 में सूक्ष्म सिंचाई के अधीन थी, जबकि आज, 56 लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि को सूक्ष्म सिंचाई के तहत लाया गया है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि  योजना के तहत लगभग 1,13,000 करोड़ रुपये छोटे और सीमांत किसानों को प्रदान करने के लिए उनके बैंक खातों में स्थानांतरित कर दिए गए हैं।देश के छोटे किसानों को भी प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना के  तहत लाभान्वित किया गया  है। पिछले पांच वर्षों में इस योजना के तहत किसानों को 17,000 करोड़ रुपये के प्रीमियम के रूप में लगभग 90,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। इसके अलावा, राष्ट्रपति ने कहा कि देश के छोटे किसानों को एक साथ लाकर 10,000 किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ) स्थापित करने का मिशन भी एक महवत्पूर्ण कदम है।

tractor news

सरकार ने आय के स्रोत के रूप में पशुधन के विकास पर भी ध्यान केंद्रित किया है जो कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए मदद करेगा । पिछले पाँच वर्षों में देश का पशुधन ८.२  प्रतिशत वार्षिक दर से बढ़ रहा है। सरकार ने डेयरी क्षेत्र में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए 15,000 करोड़ रुपये में पशुपालन अवसंरचना विकास निधि की स्थापना की है। सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा को पशुपालन और मत्स्य क्षेत्र में भी बढ़ाया है।  इसके अलावा, प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के माध्यम से  लगभग 20,000 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। किसानों की आय बढ़ाने के लिए, राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार ने ‘अन्नदाता’ को ‘उर्जादता’ में बदलने के लिए एक अभियान शुरू किया है।

पूरे देश में शुरू की गई किसान रेल, भारतीय किसानों की पहुंच को नए बाजारों तक ले जाकर एक नए पाठ्यक्रम की मदद कर रही है। यह रेल मोबाइल कोल्ड स्टोरेज की तरह है। उन्होंने कहा कि अब तक 100 से अधिक किसान रेल शुरू की गई हैं, जिससे किसानों को 38,000 टन अनाज और फल और सब्जियां एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में पहुंचाने में सक्षम बनाया गया है।

राष्ट्रपति ने कहा आज सरकार न केवल एमएसपी पर रिकॉर्ड मात्रा खरीद रही है, बल्कि खरीद केंद्रों की संख्या भी बढ़ा रही है। खाद्यान्न उत्पादन पर देश में खाद्यान्न की उपलब्धता 2019-20 में 296 मिलियन टन की रिकॉर्ड ऊंचाई पर है, जबकि 2008-09 में यह 234 मिलियन टन थी। इसी अवधि के दौरान, फलों और सब्जियों का उत्पादन भी 215 मिलियन टन से बढ़कर 320 मिलियन टन हो गया है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत किसानों को लगभग 20 लाख सोलर पंप उपलब्ध कराए जा रहे हैं। गन्ने, मक्का और धान से इथेनॉल के उत्पादन को भी प्रोत्साहित कर रही है। इसी  सकारात्मक नीतियों के कारण, पिछले छह वर्षों में, वार्षिक इथेनॉल उत्पादन 38 करोड़ लीटर से बढ़कर 190 करोड़ लीटर हो गया है। इस साल उत्पादन 320 करोड़ लीटर तक पहुंचने की उम्मीद है। इथेनॉल किसानों की आय बढ़ाने के लिए एक प्रमुख स्रोत के रूप में उभर रहा है।

agri news

Leave a Reply