कृषि क्षेत्रों में औद्योगिक इकाइया : हरियाणा ने सिंकिग फंड प्रोत्साहन के साथ भूमि उपयोग परिवर्तन निति की तैयार।

कृषि क्षेत्रों में औद्योगिक इकाइया : हरियाणा ने सिंकिग फंड प्रोत्साहन के साथ भूमि उपयोग परिवर्तन निति की तैयार।

1306

निति के अनुसार, सभी संभावित क्षेत्रों में औद्योगिक इकाइयो , सामान्य गोदामों की स्थापना के मानदंडों को हइपर , उच्च -१ और उच्च-२, मध्यम और निम्न संभावित क्षेत्रों में वर्गीकृत किया जाएगा।  

KhetiGaadi always provides right tractor information

औद्योगिक क्षेत्रों के बाहर इकाइयो के बेतरतीब विकास को रोकने के लिए,हरियाणा पुरे हरियाणा के शहरों के लिए कृषि क्षेत्रों में औद्योगिक समूहों और औद्योगिक क्लस्टर से सटे व्यक्तिगत औद्योगिक इकाइयो , जिसमे सामान्य गोदाम शामिल है , के लिए भूमि उपयोग में बदलाव (सीएलयू)   निति लेकर आया है। राज्यपाल द्वारा अधिसूचित निति नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग द्वारा तैयार की गई थी। 

वर्त्तमान में ,औद्योगिक /कृषि क्षेत्र में औद्योगिक इकाइयो के लिए सीएलयू की अनुमति १९ मार्च,२०२१ को जारी निति द्वारा शासित होती है। हालांकि, मौजूदा निति उच्च और उच्च संभावित क्षेत्रों में वर्गीकृत शहरों की विकास योजनाओ के कृषि क्षेत्र में औद्योगिक इकाइयो की अनुमति नहीं देती है। 

Khetigaadi

“इसके अलावा, बड़ी संख्या में लोग जो हरियाणा में औद्योगिक इकाइया स्थापित करने का इरादा रखते है ,वे कृषि क्षेत्र में या एचएसआइआइडीसी  या एचएसवीपी द्वारा विक्सित औद्योक क्षेत्रों में औद्योगिक भूखंडो की उच्च लागत के कारण कृषि क्षेत्र या बाहरी नियंत्रित क्षेत्र में औद्योगिक इकाइया स्थापित करना पसंद करते है। यह बिखरी हुई औद्योगिक इकाइयो की संख्या के साथ-साथ कृषि क्षेत्र में बड़े समूहों को बुनियादी सुविधाओं के प्रावधान के बिना ले जाता है”,ए. के. सिंह ,प्रमुख सचिव (नगर और ग्राम नियोजन विभाग ) ने निदेशक, टीसीपिडी को अपने संचार में लिखा। 

अब जो निति तैयार की गई है, वह “औद्योगिक क्लस्टर और औद्योगिक क्लस्टर से सटे व्यक्तिगत औद्योगिक इकाई के लिए विभिन्न शहरों की विकास योजनाओ के कृषि क्षेत्रों में भूमि उपयोग अनुमतियों के परिवर्तन के लिए” लागु  होगी। इस निति के तहत औद्योगिक इकाइयो में सामान्य गोदाम (कृषि उत्पाद के अलावा )भी शामिल होंगे। 

औद्योगिक /गोदाम क्लस्टर निति के अनुसार ,सभी संभावित क्षेत्रों में औद्योगिक समूहों, औद्योगिक इकाइयो, सामान्य गोदामों की स्थापना के मानदंडों को हइपर ,उच्च-१ हुए उच्च -२, मध्यम और निम्न संभावित क्षेत्रो में वर्गीकृत किया जाएगा। क्षेत्र /स्थान के सन्दर्भ में-हइपर जोन के लिए-क्लस्टर का क्षेत्रफल शहरीकरण योग्य क्षेत्र के १ किमी से अधिक ५ एकड़ से २५ एकड़ तक होगा ; औद्योगिक क्लस्टर में किसी भी व्यक्तिगत औद्योगिक इकाई के लिए ०.५ एकड़ का न्यूनतम क्षेत्र ; और एक औद्योगिक क्लस्टर  में न्यूनतम ०.५ एकड़ की सीईटीपी  साईट उपलब्ध कराई जाएगी।  उच्च -१ और उच्च -२ क्षेत्रों के लिए , यह हइपर जोन के सामान होगा, लेकि क्लस्टर का अधिकतम क्षेत्र शहरीकरण योग्य क्षेत्र के ५०० मित्रे से अधिक २० एकड़ होगा।

मध्यम क्षेत्रों के लिए , क्लस्टर का क्षेत्र शहरीकरण योग्य क्षेत्र के ५०० मीटर से अधिक २.० एकड़ से १५ एकड़ तक होगा और काम संभावित क्षेत्र के लिए ,मानदंड मध्यम संभावित क्षेत्र के सामान होगा ,लेकिन क्लस्टर का अधिकतम क्षेत्र १० एकड़ होगा।

जहा सफ़ेद, हरे और नारंगी श्रेणी की औद्योगिक इकाइया सभी संभावीत क्षेत्रों में आ सकती है , वही लाल श्रेणी की औद्योगिक इकाइया मध्य, उच्च -१ और उच्च -२ और निम्न संभावित क्षेत्रों में आ सकती है। क्लस्टर के लिए एप्रोच काम से का १८ मीटर चौड़ी मौजूदा सड़क होनी चाहिए , और क्लस्टर की आतंरिक सड़के भी कम से कम १८ मीटर चौड़ी होनी चाहिए। 

व्यक्तिगत औद्योगिक / गोदाम इकाइयाँ: अति संभावित क्षेत्रों के लिए, इसे शहरीकरण योग्य क्षेत्र के एक किमी के भीतर अनुमति नहीं दी जाएगी और यह 0.5 एकड़ से अधिकतम 5 एकड़ तक होगा। उच्च-I और उच्च-II क्षेत्रों के लिए, इसे शहरीकरण योग्य क्षेत्र के 500 मीटर के भीतर अनुमति नहीं दी जाएगी, जबकि मध्यम क्षेत्र के लिए, इसे शहरीकरण योग्य क्षेत्र के 500 मीटर के भीतर 0.2 एकड़ से अधिकतम 5 एकड़ के लिए अनुमति दी जाएगी, जबकि कम संभावित क्षेत्र में। न्यूनतम 0.2 एकड़ से शहरीकरण योग्य क्षेत्र के बाहर किसी भी क्षेत्र में इसकी अनुमति होगी।

ऋण शोधन निधि: ऐसे क्लस्टरों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए निदेशक, नगर एवं ग्राम आयोजना द्वारा भविष्य के विकास कार्यों के लिए एक ‘सिंकिंग फंड’ बनाया जाएगा, जिसमें प्रत्येक आवेदक से संबंधित क्षेत्र में औद्योगिक उपयोग के लिए बाहरी विकास शुल्क के बराबर विकास शुल्क/प्रभार होगा। जमा किया हुआ।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply