कलौंजी के 10 अज्ञात स्वास्थ्य लाभ (काला जीरा)

कलौंजी के 10 अज्ञात स्वास्थ्य लाभ (काला जीरा)

82

मसालों के बिना भारतीय व्यंजन अधूरा है। काला जीरा, जिसे “कलौंजी” भी कहा जाता है, सभी रसोई में काफी आम मसाला है। इसे अंग्रेजी में रोमन धनिया, सौंफ का फूल, काला जीरा और जायफल के फूल के नाम से भी जाना जाता है।

KhetiGaadi always provides right tractor information

यह एक विशिष्ट मिठास और पौष्टिकता के साथ एक स्वादिष्ट मसाला है। कलौंजी एक हजार साल के इतिहास के साथ एक लोकप्रिय औषधीय जड़ी बूटी है। इसका इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है, जैसे कलौंजी का तेल, भुने हुए बीज, कच्चे बीज आदि।

कलौंजी के पोषण संबंधी लाभ:

कलौंजी के बीजों में आयरन, सोडियम, कैल्शियम, पोटैशियम, क्रूड फाइबर और अमीनो एसिड प्रचुर मात्रा में होते हैं। कलौंजी में विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन बी12, नियासिन और विटामिन सी जैसे विटामिन भी प्रचुर मात्रा में होते हैं। यह देखते हुए कि इसमें महत्वपूर्ण फैटी एसिड, विटामिन और खनिज शामिल हैं, कलौंजी का तेल अन्य प्रकार के तेल से बेहतर है। इसमें 57 प्रतिशत वनस्पति वसा और तेल, लगभग 17 प्रतिशत प्रोटीन और लगभग 26 प्रतिशत कार्ब्स थे।

कलौंजी के बीज खाने के फायदे:

स्मृति शक्ति को मजबूत करता है

कलौंजी को शहद के साथ मिलाने से मानसिक तनाव कम होता है। अपनी संज्ञानात्मक शक्ति में सुधार करने के लिए इसे हर दिन खाली पेट सेवन करें। बुजुर्ग आयु वर्ग अपनी खराब याददाश्त को मजबूत करने से काफी फायदा उठा सकते हैं। आयुर्वेद द्वारा कलौंजी के बीजों को पुदीने के पत्तों के साथ सेवन करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह याददाश्त बढ़ाने और अल्जाइमर जैसे तंत्रिका संबंधी रोगों को दूर करने में मदद करता है।

मधुमेह को नियंत्रण में रखता है

टाइप 2 डायबिटीज में कलौंजी ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए बेहद फायदेमंद होती है। मधुमेह टाइप 2 क्या है? यह एक पुरानी बीमारी है जिसका आपके शरीर पर प्रभाव पड़ता है कि आपका शरीर रक्त शर्करा का उपयोग और नियंत्रण कैसे करता है। सर्वोत्तम प्रभावों के लिए, मधुमेह रोगियों को खाली पेट काली चाय और कलौंजी का तेल पीना चाहिए।

दिल को स्वस्थ रखता है

दिल के लिए कलौंजी खास फायदेमंद होती है। यह आपके शरीर में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करके आपके दिल को स्वस्थ रखता है। अच्छे परिणाम पाने के लिए आपको नियमित रूप से दूध और कलौंजी के तेल का सेवन करना चाहिए।

सूजन को कम करता है

कलौंजी के बीजों के सूजन-रोधी प्रभावों का उपयोग करके विभिन्न पुरानी सूजन का इलाज किया जा सकता है। जोड़ों को चिकनाई देकर यह जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने के लिए प्रसिद्ध है। सूजन को कम करने के लिए आयुर्वेद द्वारा कलौंजी के तेल के रोजाना सेवन की सलाह दी जाती है।

रक्तचाप को संतुलित करता है

एक चम्मच कलौंजी का तेल भी कमाल का काम करता है! हां, यह आपके रक्तचाप को कम कर सकता है और फिर से होने वाले झुकाव को रोक सकता है। हाई ब्लड प्रेशर के मरीज एक चम्मच कलौंजी के तेल को गुनगुने पानी में मिलाकर पी सकते हैं।

दांतों के लिए अच्छा

आपके दांतों की मदद करने के अलावा, कलौंजी अन्य मौखिक स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कमजोर दांतों और मसूड़ों से खून आने में भी सुधार करता है। कलौंजी से दांतों की परेशानी का प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सकता है। बस एक कप दही में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाएं और इसे अपने मसूड़ों और दांतों पर दिन में दो बार लगाने से दांतों की सेहत में सुधार होता है।

अस्थमा से राहत दिलाता है

प्रदूषण के कारण अस्थमा एक बहुत ही आम बीमारी बन गई है। अस्थमा के रोगियों के लिए कलौंजी एक गुणकारी औषधि है। बस गर्म पानी में कलौंजी का तेल और शहद मिलाकर रोजाना सेवन करें।

वजन घटाने में मदद करता है

कलौंजी की मदद से आप अपने शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाकर स्लिम और ट्रिम दिख सकती हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि कलौंजी के बीजों को गर्म पानी के साथ लेने से लोगों को वजन कम करने में मदद मिलती है।

त्वचा और बालों की समस्याओं के लिए अच्छा

यह स्वस्थ त्वचा और बालों की देखभाल को बढ़ावा देता है। निखरी त्वचा के लिए इसके तेल में नीबू का रस मिलाएं। कलौंजी में मौजूद पोषक तत्व आपके बालों को मजबूती देंगे और बालों का झड़ना बंद कर देंगे।

गुर्दे के स्वास्थ्य में सुधार

रक्त शर्करा, सीरम क्रिएटिनिन और रक्त यूरिया के स्तर को कम करके, कलौंजी मधुमेह अपवृक्कता (मधुमेह का एक गुर्दा परिणाम) को कम करने में उपयोगी है। इसके साथ इंफेक्शन और किडनी स्टोन का भी इलाज किया जाता है।

खेतिगाडी आपको ट्रेक्टर और खेती से जुडी सभी जानकारी के बारे में अपडेट रखता है। खेती और ट्रेक्टर से जुडी जानकारी के लिए खेतिगाडी एप्लीकेशन को डाउनलोड करे।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply