राजस्थान किसानों के लिए लाभदायक हो सकती हैं तारबंदी योजना

राजस्थान किसानों के लिए लाभदायक हो सकती हैं तारबंदी योजना

337

हाल ही में खेती करने वाले किसानों के लिए राजस्थान सरकार ने एक अच्छी योजना लेकर आयी है। इस योजना का नाम है तारबंदी योजना। यह योजना उन आवारा पशुओं से बचने के लिए है जिनके कारण खेती में फसल को काफी नुकसान होता है जिससे किसानों को भी नुक्सान का सामना करना पड़ता है। इस परेशानी से बचने के लिए राज्य सरकार ने तारबंदी योजना की शुरुवात की है।

यह योजना राज्य सरकार ने आवारा पशुओं से बचने के लिए किसानों ने तारबंदी योजना का अनुदान प्रदान कर रही है। तो किसान इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो जल्द ही करें आवेदन।

सरकार ५० फीसदी तक देगी तारबंदी योजना पर सब्सिडी

किसान तारबंदी योजना से उठा सकते हैं लाभ, राजस्थान सरकार द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन तिलहन के अंतर्गत तारबंदी योजना चालू की गई है.इस योजना के तहत सरकार किसानों को ५० फीसदी तक सब्सिडी प्रदान करेगी।

राजस्थान तारबंदी योजना के बारे में जानकारी

किसान अपने खेत की तारबंदी करवा सकते हैं। किसानों को तारबंदी में लगने वाली जो भी लागत होती हैं उसका आधे हिस्से का खर्चा सरकार वहन करेगी। सरकार ने इस योजना के लिए ८.५ करोड़ का बजट रखा हैं।

तारबंदी योजना का मुख्य उद्देश्य

  • किसानों की फसल सुरक्षित रखने के लिए इस योजना को शुरू किया गया हैं।
  • फसल की पैदावार ज्यादा हो सकें।
  • खेतों में फसल को जानवरों से बचाना, इस योजना का मुख्य उद्देश्य हैं।
  • किसानों के लिए सुरक्षा प्रदान करना।
  • किसानों की फसल सुरक्षित रहे।

आवेदन करने के लिए ध्यान रखने योग्य जानकारी :

तारबंदी योजना में आपली करने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा। आवदेन करने के लिए ऑफिसियल वेबसाइट https://rajkisan.rajasthan.gov.in/ पर क्लिक करें। याद रखे यह योजना का लाभ सिर्फ राजस्थान के किसान ही उठा सकते हैं। इस सीमा का अनुदान ४०० रनिंग मीटर तक ही मिलेगा।
तारबंदी योजना के अंतर्गत किसानों के पास ३ हेक्टेयर की खेती होनी चाहिए।

योजना के लिए पास रखे जरुरी दस्तावेज

किसानों को योजना के लिए आवेदन करने से पहले कुछ जरुरी दस्तावेज को पास में रखना होगा।

  • नक्शा ट्रेश
  • खेत की नवीनतम जमा बंदी
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • किसानों के शपथ पत्र
  • रााजस्व विभाग का प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड, जनाधारकार्ड
agri news

Leave a Reply