खाद्य तेल की कीमतों पर सरकार कर रही है प्रयास !

खाद्य तेल की कीमतों पर सरकार कर रही है प्रयास !

254

केंद्र ने सोमवार को उम्मीद जताई कि विकास के मुद्दों के कारण बंदरगाहों पर फंसे आयातित स्टॉक की रिहाई के बाद खाद्य तेलों की खुदरा कीमत नरम हो जाएंगी।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, खाद्य तेलों की खुदरा कीमतों में एक साल में ५५.५५ प्रतिशत की वृद्धि हुई है और उपभोक्ताओं के संकट को जोड़ रहा है जो पहले से ही कोविद-१९ महामारी से प्रेरित आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं।

खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने खाद्य तेलों की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर उठाए गए कदमों के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि, सरकार हमेशा से ही खाद्य कीमतों पर करीबी नजर रखती आयी है।

JK Tyre AD

सचिव ने कहा कि उद्योग ने हाल ही में उल्लेख किया कि सीओवीआईडी ​​स्थिति के मद्देनजर सामान्य जोखिम विश्लेषण के तहत विभिन्न एजेंसियों द्वारा किए गए परीक्षणों से संबंधित मंजूरी के कारण कांडला और मुंद्रा बंदरगाहों पर कुछ स्टॉक रखे गए थे।

उस समस्या को सीमा शुल्क और एफएसएसएआई (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) के साथ संबोधित किया गया है। उस शेयर के बाजार में जारी होने के साथ, हम उम्मीद करते हैं कि तेल की कीमतों पर गिरावट देखने मिल सकती है।

सचिव ने आगे कहा कि भारत खाद्य तेल की कमी को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर है। सालाना, देश ७५,००० करोड़ रुपये के खाद्य तेलों का आयात करता है।

पिछले साल कि अपेक्षा इस साल ८ मई को वनस्पती की खुदरा कीमत ५५.५५ प्रतिशत बढ़कर १४० रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है, जो २०२० में ९० रूपए प्रति किलोग्राम थी। यह आकड़ा सरकारी जानकारी अनुसार दिया गया है।

इसी तरह, पाम तेल की खुदरा कीमत ५१.५४ प्रतिशत बढ़कर १३२.६ रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है, जो कि ८७.५ रुपये प्रति किलो से सोया तेल, ५० प्रतिशत से अधिक १५८ रुपये प्रति किलोग्राम से १०५ रुपये प्रति किलोग्राम है, जबकि सरसों के तेल में ४९ प्रति किलोग्राम है। उक्त अवधि में ११० रुपये प्रति किलोग्राम से १६३ रुपये प्रति किलो।

उक्त अवधि में सोयाबीन तेल की खुदरा कीमत भी ३७ प्रतिशत बढ़कर १३२.६ रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है, जबकि मूंगफली तेल ३८ प्रतिशत से १८० रुपये प्रति किलोग्राम से १३० रुपये प्रति किलोग्राम है।

agri news

Leave a Reply