मंडी कर कम करने का आग्रह किसानों  द्वारा  किया  गया

मंडी कर कम करने का आग्रह किसानों द्वारा किया गया

140

सूत्रों के मुताबिक राजस्थान के कृषि उपज व्यापारी संघ एवं किसान राज्य सरकार से आग्रह कर रहे है कि आने वाले बजट में मंडी कर को कम किया जाये जो मध्य प्रदेष, उप्र और गुजरात जैसे राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है।

व्यापारी ne 1% किसानों के कल्याण उपकर को समाप्त करने की भी मांग ki hai क्योंकि यह किसानों को नुकसान में डालता है। राज्य के एक कृषि संगठन के प्रतिनिधि ने यह भी कहा कि, करों के कारण किसानों को भुगतान करने वाले कृषि वस्तुओं के खरीदार को भी इससे कोई फायदा नहीं होता है।

प्रेसिडेंट ऑफ़ राजस्थान खाद्य पदार्थ समिति, बाबूलाल गुप्ता के कथन के अनुसार “उच्च मंडी करों के कारण, राजस्थान जैसे अन्य राज्यों की तुलना में चीनी जैसे विभिन्न कृषि उत्पादों की दरें अधिक हैं।

tractor news

इसके अलावा, जहां भी संभव हो, मुख्य रूप से सीमावर्ती क्षेत्रों में खरीदार और विक्रेता राजस्थान में कोई भी लेनदेन करने से बच रहे हैं क्योंकि कर के परिणामस्वरूप राज्य को कर राजस्व का नुकसान होता है”।

उन्होंने किसान कल्याण उपकर पर भी ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि “मुझे नहीं लगता कि यह अब तक बहुत सारे किसानों को फायदा पहुंच रहा है। लेकिन उपकार निश्चित रूप से किसानों को नुकसान पहुंचा रहा है।

हालांकि कृषि उत्पादों के खरीदार कर का भुगतान करते हैं, लेकिन वे किसानों को भुगतान की जाने वाली दरों से समान राशि कम करते हैं। अंतत: यह वे किसान हैं जो कर का भुगतान कर रहे हैं।”

उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों ने मंडी कर को 2% से घटाकर 1% कर दिया। उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों ने मंडी कर को 2% से घटाकर 1% कर दिया। 0.5% विकास शुल्क के साथ, व्यापारी 2.5% के बजाय कुल 1.5% मंडी कर का भुगतान करते हैं।

गुजरात और मध्य प्रदेश में, गुजरात और मध्य प्रदेश में, मंडी में लेन-देन में 0.5% कर लगता है, जबकि राजस्थान में यह प्रमुख कृषि वस्तुओं पर 1.60% है जैसे गेहूं और अनाज पर 1% का किसान उपकर लगता है।

agri news

Leave a Reply