देश भर में रबी फसलों के उत्पादन को बढ़ाने के लिए किया जाएगा ‘किसान चौपाल’ का आयोजन

देश भर में रबी फसलों के उत्पादन को बढ़ाने के लिए किया जाएगा ‘किसान चौपाल’ का आयोजन

378

देश भर में रबी फसल की बुवाई के साथ खरीफ फसल की कटाई ज़ारी की गयी है। वहीं अगले महीने से जौ तथा गेहूं फसल की बुवाई भी शुरू हो जाएगी। हर साल की तरह इस साल भी बिहार सरकार किसान चौपाल लगाने जा रही है। इस योजना के अन्तर्गत केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा किसानों के लिए खेती से सम्बंधित नयी जानकारियाँ भी दी जाएगी।

राज्य सरकार किसानों को धान की कटाई के बाद किसानों को पुआल जलाने से रोकने के लिए विशेष अभियान चला रही है। इस योजना के तहत किसानों के गाँव-गाँव जाकर पराली जलाने से होने वाले नुकसान की जानकारी दी जाएगी |

किसानों के लिए तिलहन तथा दलहन का उत्पादन बढ़ने के लिए बीज का पैकेट किसानों को वितरित किया जाएगा। यह वितरण अच्छी गुणवत्ता वाले बीज की बुवाई के लिए किया जाएगा।

क्या है किसान पंचायत का मुख्य उद्देश्य ?

राज्य के कृषि मंत्री का कहना है कि, रबी महाभियान एवं किसान चौपाल का आयोजन विभिन्न कृषि से जुड़ी अनेक समस्याओं को निश्चित करने के लिए तथा अधिक से अधिक लाभ प्रदान करने के लिए आयोजित किया जा रहा है इनमें शामिल रबी मौसम में बुवाई की जाने वाली फसलों की वैज्ञानिक, समेकित कीट प्रबंधन, समसामयिक समस्याओं की जानकारी एवं वैज्ञानिकों द्वारा समाधान, कृषक उत्पादक संगठन के गठन, किसान पाठशाला, किसान पुरस्कार कार्यक्रम, किसान गोष्ठी, किसान मेला आदि संबंधित कृषकों के बीच प्रखंड एवं पंचायत स्तर आदि खंडो को शामिल किया है।

कितने किसान भाग लेगें?

देश भर में आयोजित किसान चौपाल में १५० किसान भाग ले सकेंगे। किसान इस योजना के तहत नवीन तकनीक की जानकारी अर्जित कर उत्पदान एवं उत्पादकता में वृद्धि कर सकेंगे, जिससे उनकी आय में भी वृद्धि देखी जा सकेगी।

सरकार द्वारा किसानों को तिलहन तथा दलहन फसलों के बीज का उत्पादन बढ़ने के लिए रबी सीजन २०२१-२२ के लिए ५० करोड़ की लागत से मिनी किट योजना की स्वीकृति दी है। इसके लिए बिहार राज्य बीज निगम एवं जिला कृषि पदाधिकारी की निर्देश दिए गए हैं कि उच्च गुणवत्ता के बीज किसानों को होम डिलीवरी एवं सामान्य तरीके से आपूर्ति की जाये |

बिहार सरकार ने विक्त वर्ष २०२१-२२ में रबी फसलों तथा गरम फसल कि बुवाई के लिए एक अनुमा जारी किया है। राज्य में रबी तथा गरम फसलों की कुल बुवाई ४५.१० लाख हेक्टेयर में खाद्यान फसलों की खेती में १५३.३५ लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है |गेहूं फसल के लिए २३ लाख हेक्टेयर में खेती से कुल ७२ लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है | रबी मक्का में ५ लाख हेक्टेयर में खेती के लिए कुल ४२.७५ लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है |

वही गरम मक्का के लिए कुल खेती २. ७५ हेक्टेयर में से १६ .५० लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। जौ फसल के लिए 0.25 लाख हेक्टेयर में खेती से कुल 0.35 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है | रबी/गरमा वर्ष २०२१–२२ में तिलहन का २.२० लाख हेक्टेयर में खेती के लिए ३.९० लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है |

agri news

Leave a Reply