किसान सिंचाई योजना से खेतों में होगी भरपूर फसल,पाएं सब्सिडी का लाभ

किसान सिंचाई योजना से खेतों में होगी भरपूर फसल,पाएं सब्सिडी का लाभ

1256

किसान को सबसे ज़्यादा खुशी तभी होती है जब उसके खून पसीने की मेहनत सफलतापूर्वक अच्छी खेती के रूप में दिखाई देती है। खेत हरा भरा दिखाई देने के पीछे एक एक प्रक्रिया को शामिल करना है जैसे खेत में बीज बोने से लेकर सिचाईं के माध्यम से समय समय पर पानी देना और अच्छी पैदावार को निर्मित करना है। परंतु भारत कृषि प्रधान देश है जहाँ पर किसानो को अच्छी कहती करने के लिए ढेरों समस्याओं से जूझना पड़ता है, जिसमे सबसे अधिक दिक्कत पानी अथवा सिचाईं के लिए प्रयोग में लाये जाने वाले स्प्रिंकलर उपकरणों का प्राप्त न होना।

KhetiGaadi always provides right tractor information

कुछ फसलों में सबसे ज़्यादा पानी की ज़रुरत पड़ती है ताकि पैदावार अच्छी हो सकें। अगर सिचाईं में किसान तकनीक का प्रयोग करें तो पानी की बचत के साथ पैदावार भी अच्छी होगी जिससे किसानों को आर्थिक लाभ में सहायता मिलेगी। इस बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने प्रधानमंत्री कृषि सिचाईं योजना की शुरुवात कर किसानों के लिए पानी जैसी समस्या का निदान कर लिया है। कृषि विशेषज्ञों का कहना हैं कि, सिचाईं को स्प्रिंकलर विधि से प्रयोग किया जाएं तो कम पानी से अच्छी फसल हो सकती है। इसके लिए सरकार ने स्प्रिंकलर के यंत्रों को खरीदने के लिए सब्सिडी प्रदान कर रही है।

योजना के लाभ, किसान कैसे प्राप्त करें, पढ़े पूरी जानकारी विस्तृत से :

Khetigaadi

प्रधानमंत्री कृषि सिचाईं योजना का उद्देश्य

सरकार ने किसानों के हित के लिए योजनाएं लागू की है, उनमें से एक है प्रधानमंत्री कृषि सिचाईं योजना, जिसमें सरकार ने ५० हजार करोड़ की राशि मान्य की है। स्प्रिंकलर विधि से सिचाईं करने के लिए सरकार लागत ८० से ९० प्रतिशत तक सब्सिडी प्रदान करेंगे। इस विधि से खेत को बिना समतल के सिचाईं की जाना अनिवार्य है।

योजना के विभिन्न लाभ

  • किसान के पास खेती के लिए उचित जमीन होनी चाहिए।
  • किसानों को इसका लाभ प्रदान होगा
  • योजना का लाभ कृषि संबंधित मान्यता प्राप्त संस्थाओं को भी प्राप्त होगा। इनमें शामिल सहकारी समिति, स्वयं सहायता समूह, ट्रस्ट,आदि शामिल है।
  • किसान लीज पर लेकर या कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के बेस पर योजना का लाभ ले सकते हैं । पर किसान को ७ वर्षों से खेती करना अनिवार्य होगा।

सिंचाई योजना के लिए ज़रूरी दस्तावेज

  • जमीन के कागजात
  • मोबाइल नंबर
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • जमीन की जमाबंदी
  • बैंक खाता डिटेल
  • पहचान पत्र के लिए कोई प्रमाण पत्र

स्प्रिंकलर तकनीक से कौन कौन से फसल उत्पादित की जा सकती है:

स्ट्राबेरी, प्याज, अदरक, पत्तेदार सब्जी, दाल, आलू, मटर, मूंगफली, सरसों, पत्तागोभी, लहसुन, ब्रोकली, फूलगोभी।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply