पीएम कुसुम योजना के तहत ५०,००० कृषि पंपों को सोलराइज करने की योजना की जाएगी

पीएम कुसुम योजना के तहत ५०,००० कृषि पंपों को सोलराइज करने की योजना की जाएगी

236

आंध्र प्रदेश सर्कार ५०,००० ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों के सौरकरण के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है, जो उन्हें केंद्र के प्रधान मंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महाभियान के तहत आवंटित किए गए हैं, जिसे पीएम कुसुम योजना के रूप में जाना जाता है।

स्वच्छ ऊर्जा की ओर बढ़ने की पहल का एक हिस्सा मानते हुए पीएम कुसुम योजना का उद्देश्य किसानों को ऊर्जा सुरक्षा प्रदान करना भी है।

जानकारों अनुसार, २४० मेगावाट (मेगावाट) की संचयी क्षमता के बराबर आवंटन किया जाएगा और इसके लिए नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) प्रति मेगावाट लगभग ३०% की केंद्रीय सहायता प्रदान करेगा।

JK Tyre AD

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आवंटन पीएम कुसुम योजना के घटक सी के हिस्से के रूप में किया गया है, जो पूरे आंध्र प्रदेश में दस लाख ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों के सौरकरण की योजना बना रहा है।

पीएम कुसुम के दिशानिर्देशों के अनुसार, जबकि एमएनआरई ३०% सहायता प्रदान करता है, राज्य को ३०% प्रदान करना होता है और शेष किसान को वहन करना होता है।

किसान सिंचाई की जरूरतों को पूरा करने के लिए उत्पन्न सौर ऊर्जा का उपयोग करने में सक्षम होगा और अतिरिक्त सौर ऊर्जा, को राज्य विद्युत नियामक आयोग द्वारा निर्धारित मूल्य पर डिस्कॉम को बेचा जाएगा।

आंध्र प्रदेश के न्यू एंड रिन्यूएबल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड के वाइस-चेयरमैन और एमडी, एस रमना रेड्डी ने कहा कि, अधिकारी अब सोलराइजेशन के लिए फीडर-लेवल पर कनेक्शन की पहचान जैसी परियोजना के कार्यान्वयन की प्रक्रिया शुरू करेंगे ।

पीएम कुसुम योजना के क्रियान्वयन के लिए यह नियम है कि केवल घरेलू रूप से निर्मित पीवी मॉड्यूल का उपयोग किया जाना चाहिए।

रेड्डी ने कहा कि “दिशानिर्देश कहते हैं कि एकीकरण ११ केवी स्तर पर किया जाना चाहिए, लेकिन हमने उच्च स्तर जैसे १३२ केवी और २२० केवी पर एकीकरण का प्रस्ताव रखा है।

रिकॉर्ड में बताया गया है कि, आंध्र प्रदेश में ६,६६३ से अधिक कृषि फीडर और १८ लाख कनेक्शन हैं। जबकि राज्य के लिए ५०,००० कृषि पंप आवंटित किए गए हैं, और यह संख्या आगे बढ़ सकती है।’’

agri news

Leave a Reply