लेबर कार्ड से श्रमिकों को होगा लाभ, जानें आप इसके पात्र है या नहीं

लेबर कार्ड से श्रमिकों को होगा लाभ, जानें आप इसके पात्र है या नहीं

375

भारत में श्रमिक लोग बेहतर रोजगार की तलाश में विभिन्न राज्य जैसे चंडीगढ़, पुणे, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बिहार जैसे औद्योगिक शहरों अपना घर बसाते है और अपने घर का पालन पोषण करते हैं। परन्तु, कोरोना महामारी के समय इन बड़े शहरों में कारोबार ठप हो गया।

इससे बड़े दोए पर छोटे मजदूरों और कामगारों को काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा, इसमें शामिल बिहार के मजदूर की संख्या ज्यादा है।

ऐसी परिस्थिति में बिहार के श्रमिकों के लिए सरकार ने योजना के तहत लेबर कार्ड बनवाने के लिए सुविधा प्रदान कर रही हैं। इस लाभ से कई लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जिससे आप अपने परिवार का जीवन अच्छे से चला सकते है।

लेबर कार्ड बनवाने पर मिलेगी अनेक सुविधाएं

श्रमिक लेबर कार्ड के ज़रिये साइकिल खरीद सकते हैं, जिसमे उन्हें ३५०० रूपए दिए जाएंगे, पर साइकिल खरीद की रसीद होना अनिवार्य है।

  • निर्माण कामगार को अधिकतम मूल्य १५००० औजार के लिए मिलेंगे।
  • मकान की मरम्मत के लिए मूल्य २० हजार दिए जाएंगे।
  • चिकत्सा सहयता के लिए सरकार सुविधा प्रदान कर रही है।
  • पेंशन के रूप में ८० वर्ष पूर्ण होने या न्यूनतम पांच वर्ष की सदस्यता के बाद ही रूपए १००० प्राप्त होंगे।
  • इसके साथ ही यदि कोई लाभार्थी कार्य के दौराण विकलांग हो जाता है तो प्रतिमाह विकलांगता पेंशन का लाभ उठा सकता है।
  • श्रमिक की मृत्यु हो जाने पर घरवालों को क्रियाक्रम के लिए ५००० रूपए दिए जाएंगे।
  • आकस्मिक मौत होने पर रूपए २ लाख की राशि दी जाएगी।
  • किसी लाभार्थी की दुर्घटना पर जान जाती है तो ४० हजार रूपए दिए जाएंगे।
  • इसके आलावा श्रमिकों को अपने और अपने परिवार के कपड़े खरीदने के लिए २५०० रूपए दिए जाएंगे।

लेबर कार्ड बनवाने के लिए कौन पात्र है ?

यदि रोड निर्माण एवं भवन निर्माण कार्य में कुशल कोटि के श्रमिक, राज मिस्त्री हेल्पर, राज मिस्त्री,लोहार, बढ़ई, इलेक्ट्रिशियन ( जो भवन निर्माण में कार्यरत है) मिस्त्री और उनके सहायक जो भवन में टाइल्स का कार्य कर रहे हो, लोहा बांधने एवं सेंट्रिंग का काम करने वाले लोग,
वेल्डिंग एवं गेट ग्रिल का काम करने वाले लोग, कंक्रीट मिक्स ढोने वाले, , कंक्रीट मिक्सर मशीन चलाने वाले, प्लम्बर जो भवन निर्माण में प्लम्बर का कार्य कर रहे हों, आधुनिक यंत्रों को चलने वाले, भवन निर्माण कार्य स्थल पर चौकीदार /गार्ड की नौकरी करने वाले, मनरेगा कार्यक्रम के अंतर्गत (बागवानी एवं वानिकी को छोड़कर) काम करने वाले लोग लेबर कार्ड आसानी से बनवा सकते हैं। खान अधिनियम 1952 एवं कारखाना अधिनियम १९४८ के अंतर्गत निर्माण कार्य में संलग्न श्रमिक शामिल नहीं हैं।

जरुरी दस्तावेज, लेबर कार्ड के लिए

नाम प्रिंटेड कैंसिल चेक या बैंक पासबुक की छायाप्रति।
आधार कार्ड।

बिहार में लेबर कार्ड बनवाने की प्रक्रिया

http://bocw.bihar.gov.in/ की वेबसाइट पर लॉगिन करें।
इसके बाद दाईं तरफ लाल पट्टी पर ‘नए निबंधन के लिए अनुरोध’ पर क्लिक करें।
पीडीऍफ़ फाइल को क्लिक करके डाउनलोड करें।
योजना से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त होगी।
इसके बाद आपको अपने ब्लॉक में जाकर श्रम संसाधन विभाग के अफसर से मिलना होगा।
वो अफसर आपको लेबर कार्ड का फॉर्म देंगे, चाहे तो आप पंचायत के मुखिया से भी फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं।
फॉर्म को अच्छी तरह भरकर श्रम संसाधन विभाग में जाकर जमा कर दें।

लेबर कार्ड बनवाने की तय आयु सीमा

लेबर कार्ड को १८ से ६० वर्ष के कामगार बनवा सकते हैं जिसके लिए निभांडण शुल्क २० रूपए जमा करना होगा।

agri news

Leave a Reply