किसानों की आय का आधार बन रहा है बी फार्मिंग : पीएम मोदी

किसानों की आय का आधार बन रहा है बी फार्मिंग : पीएम मोदी

499

पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले के गुरदुम गाँव के किसानों की प्रशंसा करते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि यह आत्मानिर्भर भारत के लिए एक महान प्रयास है। पीएम मोदी ने मधुमक्खी पालन के महत्व पर प्रकाश डाला और यह भी कहा इससे किसानों की आय बढ़ाने में कैसे मदद होगी ।

अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात ’के दौरान पीएम मोदी ने कहा,“ कई किसान अब बी फार्मिंग में शामिल हो रहे हैं। गुरदूम गांव, दार्जिलिंग के लोगों ने मधुमक्खी पालन का काम किया है और आज उनके द्वारा शहद की महत्वपूर्ण मांग है। इससे उनकी आय भी बढ़ रही है और वे आत्मानिर्भर भारत अभियान में मदद कर रहे हैं। ”

पीएम मोदी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के सुंदरबन क्षेत्र का प्राकृतिक जैविक शहद देश और दुनिया भर में काफी मांग में है।

पीएम मोदी ने हरियाणा के यमुनानगर से एक समान उदाहरण का उल्लेख किया, जहां किसान सालाना कई सौ टन शहद का उत्पादन कर रहे हैं।

उनोन्हे कहा की,किसानों की आय बढ़ाने के लिए कृषि क्षेत्र में रोजगार के अवसर प्रदान हो रहे है । श्वेत क्रांति के दौरान देश ने इसका अनुभव किया है । अब मधुमक्खी पालन एक समान विकल्प के रूप में उभर रहा है। मधुमक्खी पालन देश में हनी क्रांति या मीठी क्रांति की नींव बन रहा है। बड़ी संख्या में किसान इसके साथ जुड़ रहे हैं। ”

उनोन्हे ने आयुर्वेद और प्राकृतिक स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों में शहद के महत्व का भी उल्लेख किया। पीएम ने कहा कि इस मेहनत का नतीजा है कि देश में शहद का उत्पादन लगातार बढ़ रहा है और सालाना लगभग 1.25 लाख टन शहद का उत्पादन होता है और विदेशों में भी निर्यात किया जा रहा है।

अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात ’के दौरान पीएम मोदी ने कहा,“ कई किसान अब बी फार्मिंग में शामिल हो रहे हैं। गुरदूम गांव, दार्जिलिंग के लोगों ने मधुमक्खी पालन का काम किया है और आज उनके द्वारा शहद की महत्वपूर्ण मांग है। इससे उनकी आय भी बढ़ रही है और वे आत्मानिर्भर भारत अभियान में मदद कर रहे हैं। ”

पीएम मोदी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के सुंदरबन क्षेत्र का प्राकृतिक जैविक शहद देश और दुनिया भर में काफी मांग में है।

पीएम मोदी ने हरियाणा के यमुनानगर से एक समान उदाहरण का उल्लेख किया, जहां किसान सालाना कई सौ टन शहद का उत्पादन कर रहे हैं।

उनोन्हे कहा की,किसानों की आय बढ़ाने के लिए कृषि क्षेत्र में रोजगार के अवसर प्रदान हो रहे है । श्वेत क्रांति के दौरान देश ने इसका अनुभव किया है । अब मधुमक्खी पालन एक समान विकल्प के रूप में उभर रहा है। मधुमक्खी पालन देश में हनी क्रांति या मीठी क्रांति की नींव बन रहा है। बड़ी संख्या में किसान इसके साथ जुड़ रहे हैं। ”

उनोन्हे ने आयुर्वेद और प्राकृतिक स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों में शहद के महत्व का भी उल्लेख किया। पीएम ने कहा कि इस मेहनत का नतीजा है कि देश में शहद का उत्पादन लगातार बढ़ रहा है और सालाना लगभग 1.25 लाख टन शहद का उत्पादन होता है और विदेशों में भी निर्यात किया जा रहा है।

agri news

Leave a Reply