महिला दिवस 2021: जैव विविधता संरक्षण में महिलाओं की भूमिका का अहम् योगदान

महिला दिवस 2021: जैव विविधता संरक्षण में महिलाओं की भूमिका का अहम् योगदान

1102

८ मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। जिसमें महिलाओं की भूमिका विभिन्न क्षेत्रों में एक अहम योगदान प्रदान करती है । उनकी सफलता का योगदान सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, और सांस्कृतिक विकास में उनकी भूमिका को पहचाना और सराहा जाता है । यह दिन महिलाओं के अधिकारों और लैंगिक समानता के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए भी मनाया जाने लगा। महिलाओं का योगदान को एक और क्षेत्र यानी जैव विविधता संरक्षण में भी अहम भूमिका निभाता है जिसे सराहना की जानी चाहिए।

KhetiGaadi always provides right tractor information

सोवियत रूस की महिलाओं ने ८ मार्च १९१७ में मताधिकार प्राप्त किया था जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को मान्यता दी और अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। “इस वर्ष का विषय “नेतृत्व में महिला: एक सीओवीआईडी ​​-19 दुनिया में एक समान भविष्य को प्राप्त करना” है, जो जीवन के सभी क्षेत्रों में एक समान भविष्य को आकार देने में दुनिया भर की महिलाओं और लड़कियों द्वारा किए गए जबरदस्त प्रयासों को उजागर करता है।”

भारत देश लिंग प्रधान देश रहा है जहाँ समाज में महिलाओं और पुरुषों में भेदभाव के परिणामस्वरूप आम तौर पर प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन और उपयोग में अलग-अलग भूमिका होती हैं।दुनिया में ऐसे कई क्षेत्र है जहाँ महिला और पुरुष अलग अलग भूमिका निभाते हैं, पर कुछ क्षेत्रों के कार्यों में महिलाओं का प्राथमिक योगदान होता है।
वे प्राकृतिक संसाधन प्रबंधक के रूप में कार्य करती हैं जलाऊ और पानी, स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना, अपशिष्ट प्रबंधन, जैसे कार्यो में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं ।

प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षक के रूप में महिलाओं की भूमिका देखने मिलती है,जैसे बीजों की देखभाल, पानी के स्रोतों, पौधों के विभिन्न प्रकार के लाभों के बारे में जिसमें भोजन, दवाओं और सौंदर्य प्रयोजनों के लिए जानकारी प्राप्त करना महिलाओं के इस विशाल ज्ञान का उपयोग जैव विविधता के संरक्षण के लिए आवश्यक है।

पर्यावरण प्रकाशन के अनुसार, “महिलाएं 135 विभिन्न निर्वाह आधारित समाजों में एकत्रित कुल जंगली वनस्पति खाद्य पदार्थों का लगभग 80 प्रतिशत प्रदान करती हैं। कई विकासशील देशों में 80 प्रतिशत आबादी पारंपरिक दवाओं पर निर्भर है। महिलाओं को अक्सर विभिन्न स्थानीय और उपेक्षित प्रजातियों का अधिक विशिष्ट ज्ञान होता है।”

भारत देश पारम्परिक प्रातहो और रीति रिवाज़ो के लिए माना जाता है साथ ही महिलाओं ने कृषि प्रथाओं में शामिल ज्ञान को परिलक्षित किया है। उदाहरण के लिए, आज भी पेड़ों की रक्षा के लिए चिपको आंदोलन में महिलाओं द्वारा दिखाए गए बहादुरी की सराहना की जाती है और आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों में महिलाओं को पानी के लवणता के संकेतक के रूप में प्लांट सेसुवियम पोर्टुलाकस्ट्रम में रंग परिवर्तन का उपयोग करते हैं। एक अन्य उदाहरण राजस्थान में बिश्नोई समुदाय का है जो अपने क्षेत्र के वन्यजीवों के संरक्षण में महिलाओं के प्रयासों को उजागर करता है।

इसलिए, वैश्विक स्तर पर जैव विविधता के स्थायी प्रबंधन में महिलाओं के योगदान को मान्यता देना बहुत महत्वपूर्ण है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रयास केवल मान्यता के साथ समाप्त नहीं होने चाहिए, बल्कि जैव विविधता संरक्षण में महिला नेतृत्व के सपने को साकार करने के लिए विभिन्न संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्लेटफार्मों पर योजना और निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में महिलाओं को एकीकृत करने के लिए भी ठोस कदम प्रदान करने चाहिए।

agri news

To know more about tractor price contact to our executive

Leave a Reply