15% Drop in Tractor Sales, Cause Cut in Tractor Production.

Published on 5 July, 2019

15% Drop in Tractor Sales, Cause Cut in Tractor Production.

Tractor sales fell 15% throughout the previous three months so that tractor organizations cut their production. While Mahindra and Mahindra have declared it will take between 5-13 no-production days, others including Escorts have also diminished their production. With the monsoon playing truant this year, the industry is seeing a withdrawal in demand. Tractor advertisers state the serious dry season in key markets like Maharashtra and Tamil Nadu - where a request has gone somewhere around 20%-40% — will affect the general market too.

"monsoon circumstance is stress however in Maharashtra the market is down by near 30-half and in Tamil Nadu, it is somewhere around 20-30% as of now.," said Shenu Agarwal, CEO, agricultural machinery and developing business, Escorts Limited. These business sectors together involve just share of 10% of the tractor business and it is thanks to high-development markets like Madhya Pradesh that the business has had the option to counter their business drop. To the dealer inventory goes, he stated, Escorts has brought it down to between 21-25 days over the most recent couple of years.

“However, in February and March some additional tractors were kept in our depot to oblige the April Navratra," said Agarwal. "As a result, our stock was more than we might want to keep and in April, May, and June we slice production to diminish our depot inventory," he included. At present, the stock levels for the tractor business is around 5 weeks or 35 days.

"In light of the present pattern, markets where a request has slowed we have streamlined our stock however in business sectors with the positive interest we have activated our assets and stock," said Raman Mittal, ED, Sonalika Group.

"Things are not excessively bad at the present time (as in 2001-02) and a large portion of the production correction has just been done," said Agarwal.

Published by: Khetigaadi Team

1 Comments

बातम्या

एस्कॉर्ट्स ट्रैक्टर्स के निर्यात में 38.7 प्रतिशत की वृद्धि|

Published on 3 July, 2019

एस्कॉर्ट्स ट्रैक्टर्स के निर्यात में 38.7 प्रतिशत की वृद्धि|

जून 2019 में एस्कॉर्ट्स ट्रैक्टर्स की  विदेश बाजार में बिक्री  38.7 प्रतिशत के साथ 312 ट्रैक्टरों तक विस्तारित हो गयी । एस्कॉर्ट्स ने जून में  बिक्री के बाद 4 प्रतिशत तक का विस्तार किया । एस्कॉर्ट्स ट्रैक्टर्स की घरेलू बिक्री जून में 11.4 प्रतिशत से  घटकर 8,648 ट्रैक्टर पर आ गयी  । फिर भी  एस्कॉर्ट्स ने जून में ट्रैक्टर बिक्री  के बाद 1 जुलाई को 4.5 प्रतिशत इंट्राडे की पेशकश की, जो विश्लेषकों की उम्मीदों से अधिक थी ।

संगठन ने कहा कि जून 2019 में कृषि उपकरण  क्षेत्र में 8,960 ट्रैक्टर बेचे गए, जो एक साल पहले इसी महीने में बेचे गए, 9,983 ट्रैक्टरों की तुलना में 10.2 प्रतिशत से कम है।  दरअसल, जून 2019 के  समाप्ती सप्ताह  में भी इसकी बिक्री 14.1 प्रतिशत से  घटकर 21,051 ट्रैक्टर रह गई, जब की  पिछले साल इसी सप्ताह  में 24,494 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई थी।

Published by: Khetigaadi Team

1 Comments

super

Escorts Tractors Export Increased by 38.7%

Published on 3 July, 2019

Escorts Tractors Export Increased by 38.7%

Escorts Tractors abroad market expanded with 38.7 percent to 312 tractors in June 2019. Escorts jumps 4% after June, tractor sales beat analyst expectations. Domestic sales dropped 11.4 percent year-on-year to 8,648 tractors in June. Escorts offers energized 4.5 percent intraday on July 1 after tractor deals in June surpassed analyst expectations.

The organization said its agricultural machinary sector in June 2019 sold 8,960 tractors, lower by 10.2 percent compared to 9,983 tractors sold in the same month a year ago. Notwithstanding, it was higher than Emkay desire for 8,200 tractors.

 Indeed, even its sales for the quarter ended June 2019 declined 14.1 percent to 21,051 tractors against 24,494 tractors sold in a similar quarter earlier year.

Published by: Khetigaadi Team

1 Comments

massex ha

जून 2019 में महिंद्रा ट्रैक्टर्स के बिक्री में 19% की गिरावट

Published on 2 July, 2019

जून 2019 में महिंद्रा ट्रैक्टर्स के बिक्री में 19% की गिरावट

भारतीय ट्रैक्टर निर्माता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा का  फार्म इक्विपमेंट सेक्टर (FES), USD 20.7 बिलियन महिंद्रा समूह का एक हिस्सा ,उन्होंने सोमवार को जून 2019 में 31,879 यूनिट्स पर घरेलु बाजार के  बिक्री में 19 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की। एक प्रशासनिक दस्तावेज के अनुसार, संगठन ने जून 2018 में 39,277 यूनिट्स बेचे थे । जून 2019 के दौरान ट्रैक्टर की बिक्री  (घरेलू + निर्यात) 33,094 यूनिट्स  पर थी , जबकि एक साल पहले  इसी जून के महीने में  40,529 यूनिट्स थी।  जून महीने में  निर्यात 1,215 यूनिट्स पर रहा, जिसमें 3 प्रतिशत की गिरावट है।

 इस प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, राजेश जेजुरिकर, अध्यक्ष - कृषि उपकरण क्षेत्र, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा, "हमने जून 2019 के दौरान घरेलू बाजार में 31,879 ट्रैक्टर बेचे हैं। ट्रैक्टर की मांग जून में कम रही। हमें विश्वास है कि मानसून की शुरुआत और ग्रामीण और कृषि क्षेत्रों के लिए आने वाले केंद्रीय निधि के कारन आने वाले महीनों में सकारात्मक परिवर्तन की उम्मीद है । विदेश बाजार में, हमने 1,215 ट्रैक्टर बेचे हैं। '' FY'20 के Q1 के दौरान, कंपनी की बिक्री  जून 2018 के  100,784 यूनिट्स के  तुलना में एक महीने पहले 86,350 यूनिट्स  पर 14 प्रतिशत से कम हो गयी ।

Published by: Khetigaadi Team

Mahindra tractors sale dropped by 19% in June 2019

Published on 2 July, 2019

Mahindra tractors sale dropped by 19% in June 2019

Indian tractor manufacturer Mahindra and Mahindra Ltd's. Farm Equipment Sector (FES), a piece of the USD 20.7 billion Mahindra Group, on Monday posted a 19 percent drop in domestic sales at 31,879 units in June 2019. The organization sold 39,277 units in June 2018, according to an administrative documenting. All the tractor deals (domestic + exports) during June 2019 were at 33,094 units, as against 40,529 units for a similar period a year ago. Exports for the month remained at 1,215 units, which is drop by 3 percent.

Remarking on the performance, Rajesh Jejurikar, President - Farm Equipment Sector, Mahindra and Mahindra Ltd. stated, "We have sold 31,879 tractors in the domestic market during June 2019. Tractor demand stayed drowsy in June. We trust that the beginning of monsoon and the upcoming Union Budget designations to the rural and agricultural areas will drive positive assumption in the coming months. In the abroad market, we have sold 1,215 tractors." During Q1 of FY'20, the company deals dropped by 14 percent at 86,350 units a month ago as compared to 100,784 units in June 2018.

Published by: Khetigaadi Team

1 Comments

best tractor super maan

महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी अब बढ़ाना चाहती है विदेशों में अपना कारोबार|

Published on 29 June, 2019

महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी अब बढ़ाना चाहती है विदेशों में अपना कारोबार|

महिंद्रा एंड महिंद्रा- दुनिया में ट्रैक्टरों का सबसे बड़ा विक्रेता - अपने सामान्य ट्रैक्टर उत्पादन  का 50 प्रतिशत  हिस्सा अगले 5-7 वर्षों में भारत के बाहर के क्षेत्रों से उत्पन्न होने की उम्मीद करता है। आज तक, वार्षिक ट्रैक्टर  उत्पादन   के संदर्भ में लगभग 33 प्रतिशत विदेश क्षेत्रों से उत्पन्न होता है। महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने कहा, "अगले 5-7 वर्षों में, हम उत्पन्न के घरेलू और विदेश के हिस्सों में 50:50 हिस्सा होने की उम्मीद करते हैं।" उन्होंने कहा कि यह (50:50 हिस्सा )  प्राकृतिक और  अकार्बनिक चाल के माध्यम से पूरा किया जाएगा।

कृषि कार्यान्वयन स्थान पर, गोयनका जी ने कहा कि महिंद्रा एंड महिंद्रा अधिग्रहण के लिए उपलब्ध था। "कृषि कार्यान्वयन में, हमारे द्वारा दर्ज किए गए सभी नवाचार, अधिग्रहण और नए बाजार 50 हेक्टर से कम क्षेत्र में खुद को फिट करने के लिए केंद्रित हैं।

गोयनका जी ने कहा कि महिंद्रा एंड महिंद्रा वर्तमान में व्यावसायिक क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति को मजबूत बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है जहां पर पहले से ही उपस्थिति थी। उन्होंने कहा, "हमारा उद्योग उन्हीं व्यावसायिक क्षेत्रों में होगा जहां ऑटो, ट्रैक्टर या टेक महिंद्रा के माध्यम से हमारी प्रभावी उपस्थिति है। हम उम्मीद करते है कि हमारे और विभिन्न संगठन पिग्गीबैक की सवारी ब्रांडों पर प्रभावी ढंग से काम करेंगे। महिंद्रा फायनान्स भी हमारा व्यवसाय है।

पिछले दो वर्षों में, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अपनी विश्वव्यापी छाप को मौलिक रूप से बढ़ाया है। भारत से ट्रैक्टर और ऑटो भेजने और बेचने के बजाए, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने दुनिया के कई हिस्सों में सीकेडी ऑपरेशन के तहत काम करना शुरू कर दिया है।

Published by: Khetigaadi Team

Mahindra and Mahindra want to spread their business overseas.

Published on 29 June, 2019

Mahindra and Mahindra want to spread their business overseas.

Mahindra and Mahindra- the biggest seller of tractors in the world by volumes - expects 50 percent of its general tractor incomes to originate from areas outside India in the next 5-7 years. As on date, just around 33 percent in worth terms of yearly tractor incomes originates from areas abroad. "In the next 5-7 years, we ought to be at 50:50 mix among domestic and abroad portion of incomes," Pawan Goenka, Managing Director, Mahindra, and Mahindra, told. This (50:50 mix) will be accomplished through part natural and part inorganic moves, he stated.

On agricultural implement space, Goenka said that Mahindra and Mahindra were available to acquisitions. "In agricultural implement, all the innovation, acquisitions and new markets we enter are focused around fitting ourselves into a field that is under 50 hectares.

Goenka said that Mahindra and Mahindra currently concentrated around solidifying its presence in business sectors where it previously had a presence. "Our push will be in business sectors where we have great presence effectively through auto, tractors or Tech Mahindra. We will hope to take our different organizations to do piggyback riding on brands effectively settled. Mahindra Finance is also our business", he said.

In the previous two years, Mahindra and Mahindra have extended its worldwide impression fundamentally. As opposed to sending and selling tractors and autos from India, Mahindra and Mahindra have begun doing CKD operations in numerous parts of the world.

Published by: Khetigaadi Team

1 Comments

6262249443

मानसून की देरी से प्रभावित हुआ ट्रैक्टर उद्योग|

Published on 25 June, 2019

मानसून की देरी से प्रभावित हुआ ट्रैक्टर उद्योग|

घरेलु ट्रैक्टर बिक्री में वृद्धि, एक महत्त्वपूर्ण विषय हैं जिसे ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर नज़र रखने के लिए प्रमुख अंग माना जाता है। ट्रैक्टर के  घरेलू बिक्री के वृद्धि में  लगातार कमजोरी, ग्रामीण संकट का एक और संकेत है।घरेलू ट्रैक्टर बिक्री में वृद्धि, जिसे अक्सर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को ट्रैक करने के लिए प्रमुख अंग  के रूप में माना जाता है,उसमे 2018 के अंत में देखी गई उच्च दोहरे अंक की वृद्धि की तुलना में पिछले चार महीनों से गिरावट हो रही है| और यह  गिरावट 16 प्रतिशत हो गई है, जो की पिछले महीने में 13.2 प्रतिशत थी ।

 कई राज्यों में प्रचलित सूखे की वजह से, स्थिर मजदूरी वृद्धि के स्तर और मानसून की सुस्त प्रगति के संकेतों के साथ कृषि अर्थव्यवस्था में संकट की संभावना है।भारतीय मेट्रोलॉजिकल विभाग के अनुसार, दो सप्ताह से अधिक की देरी से सामान्य अनुमान की तुलना में सभी भारत वर्षा स्तर को कम बताया गया|  केरल  तट पर दक्षिण-पश्चिम मानसून में देरी की शुरुआत से सुस्त गति का संकेत दिया गया है| मानसून  8 जून को तट से टकराया था| आईएमडी को उम्मीद है कि चक्रवाती गड़बड़ी के बाद ही बारिश होगी, तब तक उत्तर और मध्य भारत में हीटवेव जारी रहने की उम्मीद है।

निजी मौसम भविष्यवक्ता, स्काईमेट के अनुसार, मानसून आमतौर पर मध्य जून तक देश के दो-तिहाई हिस्से को कवर करता है। इस साल, यह केवल 10 प्रतिशत के आसपास है। 20 जून के बाद स्थितियों में सुधार हो सकता है| इसके अलावा, यह निष्कर्ष है कि ट्रैक्टर के घरेलू बिक्री वृद्धि पर मानसून देरी का प्रभाव पडेगा।

अनुमान है की, ग्रामीण अर्थव्यवस्था में कुछ राहत देखी जा सकती है और वित्तीय स्थिति में सुधार और अर्थव्यवस्था के स्थिति में सुधार होने की संभावना है।जिसके कारन ट्रैक्टर बिक्री के वृद्धि में सुधार हो सकता है | 

Published by: Khetigaadi Team

Tractor Industry Affected by Delay in Monsoon.

Published on 25 June, 2019

Tractor Industry Affected by Delay in Monsoon.

An increase in domestic tractor sales is an important subject, which is considered as the main gauge for tracking the rural economy. The continuous weakness in the growth of the domestic sales of the tractor is another indicator of rural crisis. An increase in domestic tractor sales, which is often considered as the main gauge to track the rural economy, has seen the high end of 2018 Compared to the double-digit growth, it has been falling for the last four months. And this decline has widened to 16 percent, which was 13.2 percent in the previous month.

 Due to the prevailing drought in many states, with the signs of slow wage growth and slow progress of monsoon, the likelihood of a crisis in the agricultural economy. According to the Indian Metrological Department, two weeks delay in comparison to the general estimate, lower the all India rain level. The delay in the south-west monsoon on the Kerala coast has been indicative of slow pace. The report said that the monsoon had hit the coast on June 8. IMD expects that only after the cyclonic disturbances there will be rains, till then the heatwave is expected to continue in the north and central India.

According to the private weather forecaster, Skymate monsoon usually covers two-thirds of the country till mid-June. This year, it is only around 10 percent. It has also been reported that conditions can improve after June 20. Apart from this, also concludes that the domestic sales growth of tractor will have a bearing on monsoon delays.

Estimate that there can be some relief in the rural economy and there is the possibility of improving the financial condition and improving the situation of the economy, due to which the growth of tractor sales can improve.

Published by: Khetigaadi Team

फसल क्षेत्र घटने के कारन वित्तीय वर्ष 2019 में ट्रैक्टर बिक्री में गिरावट |

Published on 22 June, 2019

फसल क्षेत्र घटने के कारन वित्तीय वर्ष 2019 में ट्रैक्टर बिक्री में गिरावट |

12-14 प्रतिशत के अनुमान के खिलाफ, उद्योग उच्च एकल अंकों में बढ़ने की उम्मीद करता है| निर्माताओं को झटका, ट्रैक्टर उद्योग की घरेलू विकास दर वित्त वर्ष 2019 के लिए अनुमानित दोहरे अंकों के स्तर से कम हो सकती है।12-14 प्रतिशत की निर्देशित वृद्धि के मुकाबले, उद्योग में 2018-19 के लिए वॉल्यूम में उच्च-अंकों की वृद्धि का प्रदर्शन होने की संभावना है।

ऋण क्षेत्र में तरलता की कमी के कारण वित्तपोषण की कमी जैसे कई कारकों, रबी के फसल की बुवाई की कम अपेक्षा और खराब भावनाओं ने 2018-19 की दूसरी छमाही के दौरान ट्रैक्टर की बिक्री को प्रभावित किया है।महिंद्रा एंड महिंद्रा, सोनालिका इंटरनेशनल ट्रैक्टर्स और एस्कॉर्ट्स जैसी ट्रैक्टर कंपनियों के संयुक्त घरेलू संस्करणों में 2018-19 के लिए 5.06 लाख यूनिट्स की वृद्धि हुई है।TAFE के संस्करणों को प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

ट्रैक्टर मार्केट लीडर महिंद्रा एंड महिंद्रा ने मार्च में ट्रैक्टर की बिक्री में 32 फीसदी की गिरावट 18,446 यूनिट दर्ज की है।2018-19 में पूरे वर्ष के लिए इसकी कुल मात्रा 3,16,742 यूनिट्स (वित्त वर्ष 18 में 3,04,019 यूनिट्स) में केवल चार प्रतिशत बढ़ी।नौ महीने की अवधि के दौरान, महिंद्रा का घरेलू वॉल्यूम 10 प्रतिशत बढ़कर 259,243 यूनिट्स हो गया। हालांकि, Q4 लगभग 57,500 यूनिट्स पर 15 प्रतिशत की गिरावट के साथ एक नम साबित हुआ।

लेकिन,सोनालिका 2018-19 के लिए 11 फीसदी (95,976 यूनिट्स) की ग्रोथ और एस्कॉर्ट्स 19 फीसदी (93,323 यूनिट) पोस्ट करने में कामयाब रहे। दोनों कंपनियों ने 2017-18 के वॉल्यूम में 22 प्रतिशत और 25 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की, जो बिक्री में वृद्धि का एक संकेत है।महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने कहा था कि FY19 का Q4 समतल होगा और तदनुसार विकास अनुमानों को संशोधित किया जाएगा।

वित्त वर्ष 2019 के लिए फसल उत्पादन के दूसरे अग्रिम अनुमान में गिरावट का संकेत दिया गया।यहां तक ​​कि खरीफ की फसल का उत्पादन पिछले वर्ष की तुलना में एक प्रतिशत अधिक होने का अनुमान है, रबी उत्पादन बुवाई में कमी के कारण पिछले वर्ष की तुलना में तीन प्रतिशत कम होने का अनुमान है| अनुपमा अरोरा,वाइस-प्रेसिडेंट और सेक्टर हेड, कॉर्पोरेट रेटिंग्स, आईसीआरए, ने कहा कि कमजोर फसल की कीमतों के साथ उत्पादन के स्तर में गिरावट से कृषि नकदी प्रवाह को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं और भावनाओं में कमी आई है।इसके अलावा, चैनल चेक से संकेत मिलता है कि रबी फसल उत्पादन पर कुछ क्षेत्रों में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के प्रभाव के बारे में भी चिंता बनी हुई है और चुनिंदा भौगोलिक क्षेत्रों में किसानों को अपनी फसलों की वसूली में देरी का सामना करना पड़ता है।

ट्रैक्टर उद्योग ने वित्त वर्ष 2017 में 5.83 लाख यूनिट्स पर 18 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2018 में 7.11 लाख यूनिट्स में 22 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।उच्च आधार के कारण वित्त वर्ष 2019 में विकास की गति मध्यम रहने की उम्मीद थी।लेकिन वित्त वर्ष 2019 की दूसरी छमाही चुनौतीपूर्ण साबित हुई और इसके परिणामस्वरूप, पूरे वर्ष के लिए समग्र विकास उम्मीद से कम रहा है।

Published by: Khetigaadi Team







ट्रैक्टर कीमत जाने

*
*

होम

कीमत

Tractors in india

ट्रॅक्टर्स

तुलना

रिव्यू