कृषि बिल के खिलाफ सड़कों पर उतरे देशभर के किसान

Published on Oct 22, 2020

कृषि बिल के खिलाफ सड़कों पर उतरे देशभर के किसान

कृषि बिल केखिलाफ देश भर के किसानशुक्रवार को सड़कोंपर उतरे। पंजाबसे बिहार तक, किसानों ने संसद द्वारा पारितकृषि बिलों केखिलाफ प्रदर्शन किया।बिहार और पंजाबमें किसान सबसेअधिक उत्तेजित थे।जहां रेलवे ट्रैकपर प्रदर्शन हुआऔर सड़कों परट्रैफिक जाम भी लगा। इसकेअलावा दक्षिण भारतमें भी कई जगहों परप्रदर्शन हुए।

दरअसल, केंद्र सरकारद्वारा लाए गए तीन कृषिबिलों के विरोधमें शुक्रवार कोभारत बंद का आह्वान कियागया था। देश के विभिन्नहिस्सों में किसानरेल और सड़क रोको अभियानरोक रहे हैं।इस बंद को कई राजनीतिकदलों का समर्थनभी मिला है।राजद नेता तेजस्वीयादव ने कृषि बिल केखिलाफ ट्रैक्टर रैलीनिकाली है। इस दौरान तेजस्वीने कहा कि कृषि बिलकिसान विरोधी है।उन्होंने मोदी सरकारपर कृषि क्षेत्रको कॉर्पोरेट हाथोंमें देने का भी आरोपलगाया।

 

बंद के दौरानकिसान संगठनों कोकांग्रेस, राजद, समाजवादीपार्टी, अकाली दल, आप, टीएमसी सहितकई दलों का समर्थन मिला।इससे पहले, पंजाबमें गुरुवार सेतीन दिवसीय रेलरोको अभियान शुरूहो गया है। किसान रेलवेट्रैक पर फंस गए हैंऔर केंद्र सरकारसे बिल को वापस लेनेकी मांग कर रहे हैं।

कृषि विधेयक केखिलाफ भारत बंदहरियाणा में भी देखा गया।किसानों की तरफ से हरजगह चक्का जामकर दिया गयाहै। वहीं, दूध, सब्जियां, राशन कीदुकानें, पेट्रोल पंप, बस स्टैंड, छोटी और बड़ी सभीदुकानें फरीदकोट, पंजाबमें बंद थीं।दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग 54 फरीदकोट से पूरीतरह से अवरुद्धथा

 

बता दें कि इस बिल पर किसानों की असली चिंता एमएसपीऔर कृषि मंडियोंको लेकर है।उन्हें डर है कि नएबिल के प्रावधानोंके कारण, कृषिक्षेत्र पूंजीपतियों औरकॉर्पोरेट घरानों केहाथों में चला जाएगा। कुछसंगठन और राजनीतिकदल चाहते हैंकि एमएसपी बिलका हिस्सा हो, ताकि खाद्यान्न कीखरीद न्यूनतम समर्थनमूल्य से कम न हो।जबकि सरकार नेस्पष्ट रूप से कहा हैकि एमएसपी औरमंडी प्रणाली पहलेकी तरह जारीरहेगी।

Ad
ad

Published by
Khetigaadi Team

Similar News

Quick Links

Ad
ad
Get Tractor Price
×
KhetiGaadi Web App
KhetiGaadi Web App

0 MB Storage, 2x faster experience